ज्ञान वरदान

By | January 10, 2016

Image result for KNOWLEDGE ज्ञान वरदान

ज्ञान को इंग्लिश मै हम नॉलेज कहते है . और शिक्षा ज्ञान से आती है .बिना ज्ञान के शिक्षा य बिना शिक्षा के ज्ञान व्यर्त है  ज्ञान इसांन को महान से महात्मा बना देता है .ज्ञान का सही उपयोग करना बहुत ज़रूरी है .ज्ञान एक शक्ति है .पर शक्ति ज्ञान के साथ नहीं आती है . ये सधरन स myth है ,ज्ञान सिर्फ collage और स्कूल से बस प्राप्त कर सकते है . क्या सिर्फ ज्ञान का उपदेश रखना शिक्षा है ,य शिक्षा और भी कुछ  है . हमें जानना है शिक्षा का असली मैंने क्या है.

 

शिक्षा वो है जो हमें सही दिशा दिखाए . शिक्षा हम लोगो के दिल और बुधि पर हाबी हो जाना चाइए. अगर शिक्षा हमारे  दिल और बुधि  पर ट्रेन नहीं किया  तो खतरनाक हो सकता है.   शिक्षा  आधार है सही दिशा ,चरित्र के लक्षण , जैसे ईमानदारी .करुना ,सहस ,और जिमादारी के रूप मै . हमें और मूल्यों की शिक्षा की जरूरी है .हमें किताबो की ज्ञान  जरुरी नहीं है .

 

सही शिक्षा हमारे दिल और बुधि को ट्रेन train करता है .एक उन्पद चोर car का पेट्रोल बस चोरी कर सकता है और पर पड़ा लिखा चोर पूरी car को चोरी कर सकता है.

 

हमें प्रतिस्पर्धा ज्ञान और भुदिमानी के लिए करना चाइए न ही आची grades के लिए. अगर किसी के पास आची degree और grades हो बिना कुछ सीखे तो वैसे व्यति  जिंदिगी मै कभी सफल नहीं हो सकता . ज़्यादातर लोग confuse मै रहेते है की तथ्यों

(facts) को याद करने की शमता ही शिक्षा है.

 

तो हमें किन लोगो को शिक्षित कहा न चाइए  ?

शिक्षित व्यक्तियों वो है जो  समजदारी और हिमत के बिच मै चुन सकते है आचिये और बुराई ,मै फरक कर सकते है ,भुधिमानी  और मुर्ख के बिच मई फरक कर सके भले उसके पास कितनी अच्छी degree क्यों न हो.

एक शिक्षित  वो है जो  सही उतर दे सके अगर  सही प्रश्न पूछे तो .

 

दोस्तों अगर अच्छा लगे तो लिखे और कमेंट करना .अगर कोई स्पेल्लिंग मिस्टेक हुई तोह माफ़ करना .

 

 

One thought on “ज्ञान वरदान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.